उज्जैनदेशमध्य प्रदेश

उज्जैन में भी विराजेंगे तिरुपति बालाजी।

भोपाल। बाबा महाकाल की नगरी उज्जैन के तिरुपति बालाजी भी विराजेंगे। तिरुमाला तिरुपति देवस्थान संस्थानम ने मध्यप्रदेश सरकार से मंदिर निर्माण के लिए 10 एकड़ जमीन उज्जैन और खजुराहों में मांगी है। मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव विवेक अग्रवाल इस भूमि आवंटन के लिए विशेष प्रयास कर रहे हैं।

तिरुपति स्थित मुख्य बालाजी मंदिर में देशभर से आने वाले श्रध्दालुओं की भारी संख्या को देखते हुए बालाजी मंदिर प्रबंधन ने देशभर के राज्यों में बालाजी मंदिर बनाने का निर्णय लिया है। कुरुक्षेत्र और कन्याकुमारी में 5-5 एकड़ भूमि क्षेत्र में 20-20 करोड़ रुपयों की राशि से बालाजी के मंदिर बन चुके हैं तथा भुवनेश्वर में 3 एकड़ भूमि पर बालाजी का मंदिर निर्माणाधीन है। मंदिर प्रबंधन ने मुम्बई में एक एकड़, इलाहाबाद और वृन्दावन में 10-10 एकड़, जयपुर में तीन एकड़, चेन्नई में 4 एकड़ और रायपुर में 10  एकड़ भूमि आवंटित किए जाने का मांग वहां की राज्य सरकारों से की है फिलहाल उन्हें प्रारंभिक स्वीकृति भी मिल गई है। असम सकार ने भी भूमि आवंटित करने का आश्वासन दिया है।

तिरुमाला तिरुपति देवस्थान के कार्यपालन अधिकारी अनिल कुमार सिंघल ने बताया कि तिरुपति बालाजी मंदिर में श्रध्दालुओं की भीड़ देखते हुए देशभर के राज्यों में बालाजी के मंदिर बनाने का निर्णय हुआ है। इसी के तहत मप्र के उज्जैन एवं खजुराहो में 10-10 एकड़ भूमि आवंटित करने की मांग की गई है।
हालांकि उज्जैन में बड़नगर मार्ग और हरसिद्धि की पाल पर तिरुपति बालाजी है। लेकिन तिरुपति देवस्थान संस्थानम तिरुपति की तरह ही भव्य और विशाल होगा।
मंदिर परिसर में कल्याण मण्डपम और आवसीय प्रकोष्ठ भी होगा।