देशप्रकाश त्रिवेदी की कलम से

|| काशी के कोतवाल कालभैरव की शरण में देश के कोतवाल नरेंद्र मोदी ||

बनारस samacharline। 

बाबा विश्वनाथ खुश हो सकते है,पर उनके कोतवाल
कालभैरव नाराज है। देश के कोतवाल ने बाबा के कोतवाल के दरबार में हाजिरी नहीं भरी। विगत ढाई साल में मोदी के कई कार्यक्रम या तो असफल रहे या प्रकृति की नाराजगी से टल गए। देर सबेर भाजपा के सयानों को समझ आया कि कालभैरव को प्रसन्न करना जरुरी है। लिहाजा आज मोदी बाबा विश्वनाथ में अनुष्ठान करने के बाद सीधे कालभैरव के दरबार में हाजिरी देंगे और उनसे क्षमा प्रार्थना करेंगे।

download (1)
बनारस सुबह से ही मोदी रंग में है।
मोदी का रोड शो जारी है। महामना मालवीय जी की प्रतिमा पर पुष्पहार अर्पित कर मोदी का काफिला बनारस का दिल कहे जाने वाले अस्सी चौराहा होकर मंदिर पहुंचा।
बाबा के दरबार में आज शनिवार को फाल्गुन माह में कृतिका नक्षत्र में छःठ के दिन मेष राशि के चंद्रमा में, शुक्र के मीन राशि में गोचर करने के समय मोदी रुद्राभिषेक करेंगे। बाबा को प्रसन्न करने के लिए जैविक सामग्री से अनुष्ठान होगा।
मोदी बाबा से बनारस और उत्तरप्रदेश के विजय की कामना करेंगे।
बाबा के दर्शन पूजन के बाद मोदी क्षमा भाव से कालभैरव की शरण में जायेंगे। कालभैरव को मोदी दूध अर्पित करेंगे। यहाँ की व्यवस्था में लगे विश्वस्त सूत्रों के अनुसार , मोदी कालभैरव से राहु के शुभ फल की प्रार्थना करेंगे।
कालभैरव की क्षमा पूजा के बाद का आज का रोड शो सम्पन्न होगा।
गौरतलब है कि बनारस में अपना किला बचाने के लिए मोदी ने पुरी ताकत झोंक दी है। 20 मंत्री,40 सांसद, भाजपा का केंद्रीय एवं प्रादेशिक नेतृत्व , बनारस के लोक जीवन के अनुसार समाज और जातियों के देशभर से आए भाजपा नेता यहाँ डेरा डाले हुए है।
बनारस के बहाने पूर्वांचल की 90 सीटों को साधने का प्रयास हो रहा है।
बहरहाल काशी के कोतवाल कालभैरव और देश के कोतवाल मोदी का मिलन क्या रंग लाता है , यह देखना होगा। कवि केदारनाथ सिंह के शब्दों में ‘ बनारस आधा सच है आधा झूठ है ‘। खास बात यह है कि बनारस का सच किसके साथ है सारी कवायद इसी के लिए है।

प्रकाश त्रिवेदी@samacharline.com