उज्जैनदेवासदेशमध्य प्रदेश

दिखावा बनी जनसुनवाई,40 बार आवेदन फिर भी नहीं निराकरण

40 बार आवेदन फिर भी नहीं निराकरण
दिखावा बनी जनसुनवाई

देवास। आमजनों की समस्याओं की त्वरित निराकरण के लिए संचालित शासन के खास प्राथमिकता वाले जनसुनवाई पर 40 बार आवेदन देने के बाद भी नहीं हो पा रहा निराकरण । जिला प्रशासन द्वारा जनता की समस्याओं भ्रष्टाचार की शिकायतों पर निराकरण और जांच करा जाने का दावा किया जाता है लेकिन वास्तव में ऐसा होता नहीं लोगों को महज बातों से ही संतुष्ट कर चलता कर दिया जाता है लेकिन कार्यवाही नहीं होती।

8

9 7
40 बार आवेदन दे चुके देवास जिले के हाटपिपलिया के कमलसिंह सेंधव ग्राम पंचायत नानू खेड़ा द्वारा 6 बीघा स्थित जमीन पर वर्ष 2012 में कपिलधारा योजना के अंतर्गत 2लाख 40 हजार रुपेय ऋ ण स्वीकृत हुआ था जबकि वह अपनी कृषि भूमि में जेब से रुपए खर्च कर कुवे को लेकर आए हैं जिसके बाद उन्हें केवल 40हजार रुपए मिले साथ ही 2012 से अभी तक कपिल धारा कुआ की मंजूरशुदा 2 लाख रुपए के लिए अभी तक 40 बार जनसुनवाई में आवेदन दे चुके हैं लेकिन उनका कहना है कि मुझे अभी तक नहीं दी गई है साथ ही वर्ष 2012 में ग्राम पंचायत नानू खेड़ा के पूर्व सरपंच विष्णु पाटीदार सचिव दिनेश तवर थे तब उन्होंने मुझसे उक्त स्वीकृत राशि 2लाख 40हजार रुपए फर्जी तरीके से निकाल लिए तथा मुझ आवेदक को आज तक बची हुई राशि नहीं दी गई ।