भोपालमध्य प्रदेश

ब्रह्म महाकपाल दोष से ग्रसित म.प्र. विधानसभा

भोपाल।  भोपाल स्थित मध्यप्रदेश विधानसभा में वास्तु दोष को लेकर चली आ रही असमंजस की स्थिति पर ज्योतिष मठ संस्थान नेहरू नगर, भोपाल में विगत 15 वर्षों से विधानसभा के वास्तु दोष पर अनुसंधानरत ज्योतिषाचार्य पं. विनोद गौतम के अनुसार विधानसभा में वर्तमान समय पर ब्रह्म कपाल दोष बना हुआ है। पं. गौतम ने अपने अनुसंधान में बताया कि जिस समय नए विधानसभा भवन की शुरुआत हुई थी उस समय पर उस भवन में ब्रह्मदोष के अतिरिक्त द्वार दोष भी था, परन्तु कुछ समय पश्चात कुछ अघटित घटनाएं घटने के कारण विधानसभा का मुख्य द्वार जो कि दक्षिण दिशा अर्थात यम की दिशा में था उसे बदलकर पूर्व दिशा में कर दिया गया, परन्तु भवन में स्थित गुंबज में ब्रह्मदोष का निवारण नहीं हो सका। ऐसी स्थिति में विधायकों द्वारा सर्वब्रह्मदोष शांति यज्ञ करवाया गया, परन्तु यह विधानसभा भवन में न होकर दूसरी जगह पर हुआ कुछ समय तक तो शांति रही, लेकिन इसके पश्चात लगातार अप्रिय घटनाएं घटने लगीं। इसी संदर्भ में समाजवादी पार्टी के तत्कालीन प्रदेश अध्यक्ष श्री नारायण त्रिपाठी ने भी विधानसभा में वास्तु शांति को लेकर यज्ञ कराया था जो कि विधायक विश्राम गृह के सामने ज्योतिष मठ संस्थान के ज्योतिषाचार्य पं. विनोद गौतम के सानिध्य में संपन्न हुआ था।
यह संयोग नहीं कहा जा सकता कि एक वर्ष के कार्यकाल के अंदर विधानसभा अध्यक्ष माननीय श्री ईश्वरदास रोहाणीजी का स्वर्गवास हो गया, साथ ही उपाध्यक्ष हरवंश सिंह जी, विपक्ष के नेता जमुना देवी एवं सत्यदेव कटारे सहित प्रमुख सचिव पयासीजी का निधन होना। अर्थात विधानसभा के सभी प्रमुखों की अकाल मौत हो जाना यह संयोग नहीं हो सकता। ऐसा नहीं है कि विधानसभा में वास्तुदोष दूर करने के लिए पूर्व अध्यक्ष श्री रोहाणीजी द्वारा विधानसभा शुरु होने के पूर्व शांति अनुष्ठान करवाया जाता था एवं अनुष्ठानकृत नारियल विधानसभा में पहुंचाया जाता था, परन्तु उनके स्वर्गवास के पश्चात उक्त शांति बंद हो गई। पूर्व में विधानसभा में ब्रह्मदोष था जो कि कालांतर में ब्रह्मकपाल दोष बना। अभी वर्तमान में विधानसभा में ब्रह्म महाकपाल दोष बना हुआ है जिसके साये में सभी विधानसभा सदस्य एवं कर्मचारी-अधिकारी कार्यरत हैं जिस दोषपूर्ण भवन में असमय मौतों का सिलसिला जारी हैं। चित्रकूट विधायक, कोलारस एवं मुंगावली विधायक के असमय निधन से मध्यप्रदेश के माननीय मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहानजी ने भी विधानसभा में वास्तुदोष होने पर चिंता जाहिर की। गौरतलब है कि ज्योतिष मठ संस्थान विगत 15 वर्ष से विधानसभा में वास्तुदोष के लिए अनुसंधान कर रहा है। इन अनुसंधानों के दौरान पचासों बार विधानसभा का भ्रमण कर तत्कालिक स्थिति का अध्ययन अनुसंधान कर विधानसभा में वास्तुदोष दूर करने की सलाह तत्कालीन विधानसभा अध्यक्ष श्री रोहाणीजी को भी दी गई थी तथा बताया गया था कि कुछ छोटे-मोटे उपाय एवं परिवर्तन से यह दोष समाप्त होगा एवं प्रभावी नियम कानून बनेंगे। कुंबद के नीचे ब्रह्म स्थान पर अशोक स्तंभ निर्माण करने का प्रस्ताव भी बना था, परन्तु समय के गर्त में सभी चीजें समाप्त हो गईं। अब जब पुन: मध्यप्रदेश के माननीय मुख्यमंत्रीजी ने चिंता व्यक्त की तो तमाम वास्तु शा ियों को नजर अब विधानसभा पर बनी हुई है।
भवदीय
पं. विनोद गौतम