प्रकाश त्रिवेदी की कलम सेभोपालमध्य प्रदेश

भोपाल में विधायकों की पूछ-परख बड़ी।

भोपाल। किसान आंदोलन से उपजे हालातों के बाद सरकार में विधायकों की पूछ-परख शुरू हो गई है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने सभी मंत्रियों से कहा है कि वे विधायको को खास तबब्जो दे। उनकी बात सुने, उनके कामों पर गंभीरता दिखाए।
आज वल्लभ भवन में केबिनेट की बैठक के बाद से ही मंत्रियों और आला अफसरों के स्वर बदले बदले नजर आए।
गौरतलब है भाजपा विधायक हमेशा यह शिकायत करते रहे है कि उनकी अफसर सुनवाई नही करते है। उनके कामों और सिफारिशों पर ध्यान नही दिया जाता है। अफसर उन्हें घुमाते रहते है।
संघ और संगठन स्तर पर भी अनेक बार यह मुद्दा उठता रहा है। विधायक भोपाल के अलावा अपने अपने जिले के अफसरों की भी शिकायतें करते रहे है।
अनेक बार विधायकों और अफसरों में विवाद भी हुए है।मंत्रीयो की भी अफसरशाही से अंदर ही अंदर नाराजगी जगजाहिर है।
किसान आंदोलन के बाद संघ-भाजपा समन्वय की टीम ने सरकार के कामकाज में बदलाव की जरूरत बताई थी।
अभी भोपाल में ट्रांसफर-पोस्टिंग् का मौसम चल रहा है।
भाजपा विधायक अपने अपने क्षेत्रों में अपनी पसंद के अफसर बिठाना चाहते है।
बहरहाल साढ़े तीन साल बाद विधायकों की पूछ-परख बड़ी है। देखना है वल्लभ भवन में बह रही बदलाव की बयार जिलों तक कितना पहुंच पाती है।

प्रकाश त्रिवेदी@samacharline.com