देशप्रकाश त्रिवेदी की कलम सेमध्य प्रदेश

मालवा-निमाड़ की सुरक्षित विधानसभा सीटों पर बलाई समाज का दावा।

भोपाल। मालवा की आधा दर्जन सुरक्षित विधानसभा सीटों पर बलाई समाज दावा ठोकने की तैयारी में है। इनमे से ज्यादातर सीटों पर बलाई समाज की बहुलता होने के बाद भी खटीक या अन्य अनुसूचित जाति के विधायक निर्वाचित होते रहे है।
बलाई समाज के कद्दावर नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री राधाकिशन मालवीय के निधन के बाद समाज का भाजपा की तरफ रुझान बड़ा है। थावरचंद गहलोत के केंद्रीय मंत्री बनने के बाद अब समाज उनके इर्दगिर्द सिमट कर भाजपा में ही अपनी राजनीतिक हिस्सेदारी तलाश रहा है।
मालवा-निमाड़ में बलाई समाज की बहुलता हैं।
मालवा की मल्हारगढ़,आलोट, तराना,घटिया,सोनकच्छ,आगर,आष्ठा, सारंगपुर,सांवेर, निमाड़ की महेश्वर,खण्डवा,विधानसभा सीटों पर बलाई समाज की बहुलता है।
समाज के पास घटिया,अलोट और आष्ठा में ही सजातीय विधायक है बाकी सीटों पर खटीक और अन्य अनुसूचित जाति के विधायक है।
मध्यप्रदेश विधानसभा के चुनाव की सुगबुगाहट के बीच बलाई समाज मे राजनीतिक हिस्सेदारी को लेकर बैचेनी बढ़ने लगी है।
समाज मे सक्रिय रहने वाले समाजिक कार्यकर्ता सुभाष गहलोत के अनुसार इस बार भाजपा नेतृत्व से इन सीटों पर स्थानीय बलाई समाज के उम्मीदवारों की मांग की जायेगी।
समाज को लगता है कि थावरचंद गहलोत के केंद्रीय मंत्री और भाजपा संसदीय बोर्ड के सदस्य होने से इस बार समाज को फायदा मिल सकता है।
समाज के बुद्धिजीवी वर्ग का मानना है कि भाजपा के प्रति समाज ने वफादारी दिखाई है। शाजापुर और उज्जैन संसदीय क्षेत्रों में थोक में भाजपा को वोट दिए हैं।
विधानसभा चुनाव में भी भाजपा उम्मीदवारों को सजातीय न होने पर भी जिताया है।
इस कारण इस बार थावरचंद गहलोत और उज्जैन के सांसद डॉ. चिंतामणि गहलोत पर समाज का दबाब रहेगा कि मालवा-निमाड़ की सुरक्षित बलाई बहुल सीटों पर समाज को तरजीह दी जाए।
गौरतलब है भाजपा में बलाई समाज के ऊर्जावान युवा नेताओं की फौज सक्रिय है। विधायक सतीश मालवीय,जितेंद्र गहलोत के अलावा देवास में मनीष पनवार, इंदौर में चंद्रशेखर मालवीय,रोडमल राठोड़,बद्रीलाल मालवीय जैसे दमदार नेता पार्टी में सक्रिय है।
बहरहाल अरसे तक खटीक और अन्य अनुसूचित जातियों के नेताओं को झेलने के बाद अब बलाई समाज अपनी राजनीतिक हिस्सेदारी के लिए कमर कस चुका है। अब कोई भी समझौता समाज को स्वीकार नही है।

प्रकाश त्रिवेदी@samacharline.com