उज्जैनदेवासदेशमध्य प्रदेश

रात को निरीक्षण के बावजूद जिला चिकित्सालय की लापरवाही देखने को मिली कब दी जायेगी डाक्टरों को केप्सूल ट्रेनिग

देवास। नगर निगम के नए भवन में निर्माण के दौरान महिला मजदूर के उपर ईंट गिरी। गंभीर हालत में उसे जिला अस्पताल लाया गया है। अस्पताल आने के बाद भी हद दर्जे की लापरवाही सामने आई। महिला को ले जाने के लिए स्टे्रचर भी नहीं मिल पाया, जबकि एक दिन पहले ही शुक्रवार की रात में कलेक्टर आशीषसिंह दौरा किया गया था। दौरे के समय उन्होंने अस्पताल में पुख्ता व्यवस्था करने के निर्देश भी दिए थे, साथ ही अस्पताल में डाक्टरों को केप्सूल ट्रेनिग देने की बात कही गई थी लेकिन प्रबंधन शनिवार को फिर से लापरवाह नजर आया है।
महिला संगीता पिता शांतिलाल उम्र 18 वर्ष है। महिला राजस्थान के प्रतापगढ़ की निवासी है। संगीता के भाई कैलाश ने बताया कि निगम के बन रहे नए भवन में सुबह हम लिफ्ट से ईंट चढ़ा रहे थे। लिफ्ट उपर जाने के बाद अचानक तिरछी हो गई और भरभराकर ईंट संगीता के उपर गिर गई। ईंट गिरने से महिला बेहोश हो गई, जिसे निगम के लोडिंग वाहन में बैठाकर एमजी अस्पताल लाए गए। जहां महिला का प्राथमिक उपचार जारी है। महिला के हालचाल जानने के लिए कोई अधिकारी नहीं पहुंचा है। महिला को ले जाने के लिए स्टे्रचर नहीं मिल पाया , जिसके चलते महिला को गोदी में उठाकर ले जाना पड़ा। इसके पूर्व भी निगम आयुक्त के नए भवन का छज्जा गिर गया था, जिसकी जांच तक नहीं हो पाई है। वहीं अधिकारी खुद के निर्माण पर ध्यान नहीं दे पा रहे है।