उज्जैनदेवासदेशमध्य प्रदेश

शहर में सुअरों के बाड़ों पर चले बुलडोजर निगम ने चलाई सुअरो के बाड़े तोडऩे की मुहिम सीएसपी से बहसबाजी की तो कर दिया अंदर

शहर में सुअरों के बाड़ों पर चले बुलडोजर
निगम ने चलाई सुअरो के बाड़े तोडऩे की मुहिम
सीएसपी से बहसबाजी की तो कर दिया अंदर
देवास। कलेक्टर आशीषसिंह एवं निगम आयुक्त विशालसिंह चौहान द्वारा स्वच्छता अभियान के तहत की गई कार्यवाही के तहत सुअर पालकों को कुछ दिन पहले ही नोटिस दिये गए थे जिसमें सुअरों के बाड़े नही हटाये तो दंडात्मककार्यवाही के साथ उक्त बाड़ों को नष्ट करने का भी उल्लेख था लेकिन सुअर पालकों द्वारा बाड़े नही तोडने के कारण गुरूवार को रहवासी बस्तियों के बीच बने सुअरों के बाड़ों पर नगर निगम का बुलडोजर चला। शहर के 8 बाड़े में से निगम द्वारा 5 बाड़े को नष्ट किया यगा जिसमें भैयालाल पिता नूराजी धारू भवानी सागर वार्ड क्रमांक 38, मुकेश चौहान वार्ड क्रमांक 31, परवेश पिता बाबूलाल मल्हार कॉलोनी वार्ड क्रमांक 42, दीपक पिता रज्जू सांगते जवाहर नगर नवदुर्गा कॉलोनी वार्ड क्रमांक 22, हरि पिता मांगीलाल अमोना वार्ड क्रमांक 15 पर सुअरों के बाड़े तोडे गए लेकिन निगम द्वारा बचे हुए बाड़े जिसमें मुकेश पिता सालम सांगते, रोडिया बस्ती वार्ड क्रमांक 8, हेमराज पिता ईश्वर रेवाबाग गोविंद नगर वार्ड क्रमांक 35, संजय पिता मुकेश बिहारीगंज वार्ड क्रमांक 29 में सुअर पालकों के बाड़े नही तोड़े गए जहां पर सुअरों को रखा जाता था। गुरुवार को निगम ने दल बल के साथ कार्यवाही शुरु की जिसके चलते भवानी सागर में जब बाड़े को तोड़ा गया तो उसमें से सूअर का हुजूम देख लोग हक्के बक्के रह गए। वही जेसीबी से बाड़े को तोडऩे के समय सुअर आसपास के घरों में घुस गए जिसके बाद कुछ सुअरों को इधर-उधर से निगम द्वारा लाया गया।

IMG-20171221-WA0025 IMG-20171221-WA0026

गुरूवार को सुबह नगर निगम के अमले के साथ सबसे सुअरों के बाड़े तोडऩे के लिए सबसे पहले भवानी सागर पहुंचे। जहां पुलिस से कुछ देर के लिए विवाद की स्थिति भी बनी। बाद में रहवासी क्षेत्र में बने भवानी सागर के सुअर के बाडे को तोड़ा गया। वहीं बाड़े को तोड़ते समय सीएमसी का कर्मचारी मनोज पिता पूरन के पांव पर मलवा गिरने से गंभीर चोट आई जिसे तत्काल जिला चिकित्सालय भेजा गया। उसके बाद नगर निगम का अमला सीधे अंबेडकरनगर नाले के पास पहुंचा। जहां सुअर पालक ने सुअर के बाड़े को खुद ही तोड़ दिया था लेकिन अमले द्वारा बचे दीवार के कुछ हिस्से को जेसीबी से तोड़ा गया। उसके बाद सीधे मल्हार रोड स्थित सिल्वर कॉलोनी में जब अमला पहुंचा तो वहां एक सुअर पालक में सीएसपी से बहसबाजी भी हो गई जिस पर सीएसपी द्वारा बोला गया कि जब सुअर है ही नहीं तो फिर ये मलबा कहां से आया है जिसके बाद सीएसपी तरुणेंद्र सिंह बघेल ने निगम के अमले को बाड़े को तोडऩे के निर्देश दिये गए। वही निगम दलबल के साथ जवाहर नगर के पीछे बसे नवदुर्गा नगर पंहुचे जहा आगे घर और पीछे बाड़े को देखकर आश्चर्यचकित हो गए कि इतना साफ कैसे हो सकता है सुअरों को बाड़ा देखने के बाद पीछे से जाकर बाड़े की दीवार के साथ पतरे का शेड भी तोडा गया जिस पर निगम के स्वास्थ्य अधिकारी श्री कलेकर से गोलू सांगते की बोलचाल विवाद में बदल गई जिस पर गोलू सांगते द्वारा स्वास्थ्य अधिकारी को यहा तक बोल दिया कि रिटायरमेंट में कुछ ही समय बाकी है उसके बाद बता देंगे क्या होता है बाड़े को तोडऩे का परिणाम। जिस पर एसडीएम व सीएसपी को स्वास्थ्य अधिकारी के साथ हुए बर्ताव को लेकर गोलू सांगते को पकड़कर थाने भेजा गया। वहीं उसके बाद बाड़े को तोडऩे के लिए टीम अमोना पंहुची जहा बाड़े को तोडऩे के बाद उसमें से भी कुछ सुअर निकले। नगर निगम द्वारा शहर के रहवासी क्षेत्रों में बने सुअरों के बाड़े तोडऩे की मुहिम में नगर निगम के स्वास्थ्य अधिकारी केलकर, एसडीएम पुरुषोत्तम कुमार, सीएसपी तरुणेंद्र सिंह बघेल भारी पुलिस बल और प्रशासन की टीम मौजूद रही।