उज्जैनदेवासदेशमध्य प्रदेश

स्वच्छता एप्प पर नही हो रहा समाधान,रहवासियों के घरो में जा रहा चेंबर का पानी

स्वच्छता एप्प पर नही हो रहा समाधान
रहवासियों के घरो में जा रहा चेंबर का पानी
देवास। स्वच्छ हो शहर, उसके लिए मिशन स्वच्छता के चलते नगर निगम प्रयास तो कर रही है, किंतु सफल नहीं हो पा रही, कारण है, कहीं तो खुद के किये गए प्रयास विफल, कहीं निगम के द्वारा प्रयास ही दिखाई नहीं देता। मिशन को सफल रूप से पूरा करने के लिए निगम ने एक एप्प भी बनाया है, शिकायत के लिए टोल फ्री नम्बर भी है, किंतु बनाये गए एप्प व शिकायत नम्बर पर समाधान नहीं होती इसलिए आमजन इन एप्प को भी निगम की फिजूल खर्ची मानकर अपनी शिकायत किसे कहें इसलिए अब जैसा है वैसे में रहने को मजबूर है।
                  शहर स्वच्छ होगा तो निगम को अगले वर्ष मिलने वाले स्वच्छ भारत के लिए पूर्ण रूप से स्वच्छता में लगा है जिसके चलते देवास भी स्वच्छता में नम्बर 1 आए ओर इस मिलने वाले अवार्ड से सम्मानित किया जाएगा। इस हेतु निगम आयुक्त प्रयास कर रहे हैं कि कैसे स्वच्छ और सुंदर हो शहर इसके लिए निगम सफाईकर्मी भी इस कार्य को पूरा करने के लिए कार्यरत है किंतु उसके बावजूद भी हालत जस के तस बनी हुई है।

003
इस तरह चेम्बर का पानी सड़क पर
002
चेम्बर का पानी चले गया घर में

शहर के विद्युत वितरण कंपनी जाने वाले रास्ते के सथ ही मण्डुक पुष्कर के पास में बीते दिनों नर्मदा पाइप लाईन डालने के लिए निगम द्वारा एक कठोरी नार्सिग होम के पास से नाली को नर्मदा की पाईप लाईन डालने के लिए तोडा गया था। जिसके कारण अब चेम्बरों का पानी वहा के रहवासियों के घर के अंदर किचन के अलावा नर्मदा की पाईप लाईन में भी चेम्बरों का पानी जा रहा है। जिसके कारण नल में चेम्बर का पानी आ रहा है। वही इस मार्ग से विद्युत वितरण कंपनी में आने जाने वाले लोगों को भी गंदगी का सामना करते हुए कार्यालय जाना पड़ता है। वही इस प्रकार की हालत को देखते हुए रहवासी जितेन्द्र मोहिते द्वारा निगम के स्वच्छता एप्प पर इसकी शिकायत करीब 8 से 10 बार की गई। जिसकी शिकायत पर एक बार निगम आयुक्त विशालसिंह चौहान ने निरीक्षण किया और सीवरेज पाइप लाईन के ठेकेदार को बुलाकर नये पाइप डालने के निर्देश दिये थे । लेकिन ठेकेदार द्वारा निगम आयुक्त को भी ठंडी हवा खिला दी लेकिन कुछ दिन बीत जाने के बाद समाधान नही होने पर जितेन्द्र मोहिते द्वारा फिर से स्वच्छता एप्प पर इसकी शिकायत की गई लेकिन समाधान नही होने पर मोहिते का कहना है कि निगम केवल खाना पूर्ति करना ही उचित समझ रहा है। जबकि निगम द्वारा बनाए गए एप्प से शीघ्र कार्यवाही होने की उम्मीद थी लेकिन यह एप्प भी केवल दिखावा बना हुआ है। घरों में चेम्बरों का गंदा पानी आने से अब बिमारियों का प्रकोप का भय बना हुआ है। अब रहवासी भी कह रहे हैं कि निगम ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के स्वच्छ भारत, स्वस्थ भारत के सपने को केवल दिखावा बनाकर रखा है । लेकिन उज्जैन के ठेकेदार ने शहरभर में स्वच्छता एप्प के पोस्टरो पर स्वच्छता एप्प का जो पाठ पढाया जा रहा है उसके बावजूद शासकीय कार्यालय के पास इस तरह गंदगी से देवास को कैसे स्वच्छता में नम्बर 1 मिलेगा ये महज सवाल बनकर रह गया है। 

001
स्वच्छता एप्प के फ्लेक्स बोर्ड तो लगे लेकिन समाधान के नाम पर …………!
004
स्वच्छता एप्प पर की गई शिकायत