उज्जैनदेवासदेशमध्य प्रदेश

स्वच्छता को लेकर नगर निगम द्वारा प्रचार पर जोर, धरातल पर कमजोर

स्वच्छता को लेकर नगर निगम द्वारा प्रचार पर जोर, धरातल पर कमजोर
देवास। शहर को स्वच्छता में नम्बर वन बनाने के लिये नगर निगम आयुक्त भले ही अभियान चलाकर मेहनत करने में लगे हैं। लोगों में जागरूकता के लिये प्रचार प्रसार हो रहा है। अनेक संगठन भी अभियान में भागीदार बन रहे हैं लेकिन धरातल पर शहर की सफाई व्यवस्था में अनेक खामियां अब भी नजर आ रही हैं जिसके निपटारे में कर्मचारी ही लापरवाही बरतते नजर आ रहे हैं।
   नगर निगम ने लाखों रुपये खर्च कर स्वच्छता के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिये प्रचार प्रसार किया जा रहा है। आलम यह है कि नगर निगम के किसी भी अधिकारी को मोबाईल लगाओ रिंगटोन स्वच्छता की ही सुनाई देती है। आयुक्त शहर को स्वच्छता में नम्बर वन बनाने का भरसक प्रयास करते नजर आ रहे हैं। अल सुबह से लेकर देर रात तक अधिकारी फिल्ड में स्वच्छता की स्थिति परख रहे हैं बावजूद इसके नगर निगम की सफाई व्यवस्था में लगे कर्मचारी सें लेकर वार्ड के दरोगा लापरवाही बरत रहे हैं।
सफाई व्यवस्था का आलम यह था कि शहर के कई वार्डो में आज भी डैनेज चोक है तो कही खाली प्लाट गंदगी से भरे पडे है यहा हाल शहर के कई वार्डो के है। इसके अलावा शहर के कालोनी बाग क्षैत्र में दुर्गा मंदिर के पीछे ड्रेनेज का गंदा मलवा रोड़ पर फेल रहा है जिससे कालोनीयों में रहने वाले लोगों को गंदगी से परेशान होते देखा जा सकता है यह कोई एक उदाहरण नहीं कि सफाई व्यवस्था में लापरवाही बरती गई हो शहर में सुबह के समय अनेक स्थानों पर कचरा फैला नजर आता है। तो कही निगम द्वारा लगाये गए डस्टबिन से भरे कचरे को मवेशियों द्वारा खाकर सड़को पर बिखेर दिया जाता है।

001 002