देशप्रकाश त्रिवेदी की कलम से

31 दिसंबर- सफ़ेद रेगिस्थान में भारत माता के नारे। पाकिस्तान तक आवाज पहुचाने की होड़।

भुज(सफ़ेद रेगिस्थान से)। कच्छ के सफ़ेद रेगिस्थान में साल के आखिरी दिन सैलानियों का हजूम है। लोग भारत माता के नारे लगा रहे है। देश भक्ति के गीत गा रहे है।

नमक से बने सफ़ेद रेगिस्थान में बीच बने टॉवर पर चढ़कर लोग भारत माता के नारे लगा रहे है। लोगो की भावना हैं कि उनकी आवाज सरहद के उस पर पाकिस्तान(मात्र 60 किलोमीटर) करांची तक पहुंचे।
भुज से 100 किलोमीटर दूर भारत पाक सीमा पर धोरडो गांव के पास सफ़ेद रन क्षेत्र है।
जानकारों के अनुसार कालांतर में आए जल प्रलय में सागर का पानी इस रेगिस्थान तक आ गया। तब से कुछ समय बाद से इस रेगिस्थान में नमक बनने लगा और इसका रंग सफेद हो गया।
धीरे धीरे इसकी ख्याति बड़ी और गुजरात सरकार ने नवम्बर से फरवरी तक यहॉ टेंट सिटी बनाकर रन उत्सव शुरू किया।
उल्लेखनीय है कि कच्छ में सब कुछ है। समुद्र है,कांडला, मुद्रा पोर्ट है, पहाड़ है,और शांत पसरा हुआ रेगिस्थान है।

प्रकाश त्रिवेदी@samacharline