slider

अयोध्या राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने लोगों से मंदिर निर्माण के लिए तांबा दान करने का आग्रह किया है। 1990 के दशक में शिलादान की परंपरा को याद करते हुए ट्रस्ट ने यह योजना बनाई है। ट्रस्ट ने निर्माण योजना के तहत तांबे की पट्टी और तांबे की छड़ी मांगी है जो कि 1000 साल तक चलेगी। चंपत राय ने कहा कि मंदिर बनाने में अभी 36 से 40 महीनों का समय लग सकता है।

उन्होंने कहा,“हमें निर्माण के लिए तांबे के स्ट्रिप्स और छड़ी की आवश्यकता होगी। शुरू करने के लिए, हमें 10,000 स्ट्रिप्स और छड़ी की आवश्यकता होगी। पट्टी 18 इंच लंबी, 3 मिमी मोटी और 30 मिमी चौड़ी होनी चाहिए। यह मंदिर निर्माण में भारत के योगदान का एक स्पष्ट प्रमाण होगा।”

उन्होंने यह भी कहा कि राम मंदिर का निर्माण केवल पत्थर से किया जाएगा और लोहे का उपयोग नहीं होगा। उन्होंने कहा कि मंदिर इतना मजबूत बनाया जाएगा कि कम से कम 1000 साल तक यह जैसे का तैसा खड़ा रहे।

यह पूछे जाने पर कि क्या ट्रस्ट सभी धर्मों के लोगों से दान स्वीकार करेगा, राय ने कहा, “हिंदू, मुसलामान, कोई भी कर सकता है । यह ऑनलाइन है, इसलिए हम कैसे बता सकते हैं कि कौन दान कर रहा है? हर कोई दान कर सकता है। ”

ट्रस्ट ने अभी तक एफसीआरए अनुमोदन के लिए आवेदन नहीं किया है, और इसलिए यह विदेशों से दान स्वीकार नहीं कर सकता है।

Julie kumari  @samacharline