slider

भोपाल। उज्जैन के वरिष्ठ शिक्षाविद श्री अशोक कड़ेल ने मंगलवार को हिन्दी ग्रन्थ अकादमी मे संचालक पद का कार्यभार ग्रहण किया। इस अवसर पर प्रदेश शासन के उच्च शिक्षा मंत्री एवं हिन्दी ग्रंथ अकादमी के अध्यक्ष डॉ मोहन यादव, कृषि मंत्री श्री कमल पटेल, स्कूल शिक्षा मंत्री श्री इंदर सिंह परमार, पर्यटन निगम के पूर्व अध्यक्ष श्री तपन भौमिक विशेष रूप से उपस्थित थे।

अकादमी को श्रीकड़ेल जी के अनुभवों का लाभ मिलेगा :- डॉ यादव
पदभार ग्रहण समारोह को सम्बोधित करते हुए प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री डॉ मोहन यादव ने कहा कि वरिष्ठ शिक्षाविद श्री अशोक कड़ेल जी ने अपना पूरा जीवन शिक्षा क्षेत्र में लगा लिया। शिक्षा के साथ विद्यार्थी जगत ओर विशेषकर हिंदी के क्षेत्र में उन्होंने जो काम किए हैं, उनके अनुभवों का लाभ हिंदी ग्रंथ अकादमी के माध्यम से प्रदेश को मिलेगा। उन्होंने कहा कि भारत हिंदी के क्षेत्र में लगातार प्रगति कर रहा है। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने नई शिक्षा नीति 2020 में हिंदी के संवर्धन को लेकर विशेष प्रयास किया है। मध्यप्रदेश में अटल बिहारी हिंदी विश्वविद्यालय और हिंदी ग्रंथ अकादमी इसी उद्देश्य के साथ लगातार काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि हिंदी ग्रंथ अकादमी की देश मे अलग पहचान है। श्री कड़ेल जी के प्रयासों से अकादमी नई ऊंचाइयां हासिल करेंगी।

कड़ेल जी के दीर्घ अनुभव से हिंदी ग्रंथ अकादमी अपने उद्देश्यों को हासिल करेंगी :- पटेल
प्रदेश शासन के कृषि मंत्री श्री कमल पटेल ने कहा कि श्री अशोक कड़ेल जी का शिक्षा और शिक्षा पद्धति के क्षेत्र में दीर्घ अनुभव रहा है। उनके दीर्घ अनुभव से हिंदी ग्रंथ अकादमी अपने उद्देश्यों को हासिल करेंगी। श्री पटेल ने सम्बोधन में अपने छात्र जीवन के समय के श्री कड़ेल जी से संस्मरण भी सांझा किये।

विशेष कार्ययोजना बनाकर काम करेंगे :- कड़ेल
हिंदी ग्रंथ अकादमी के नव मनोनीत संचालक श्री अशोक कड़ेल ने कहा कि मुझे अकादमी को जिम्मेदारी दी है उसका पूर्ण निष्ठा के साथ पालन करूँगा। उन्होंने कहा कि
हिंदी और क्षेत्रिय साहित्य प्रकाशन के साथ ही छात्रों को उत्कृष्ट पाठ्य सामग्री उपलब्ध कराना सर्वोच्च प्राथमिकता रहेगी। साथ ही क्षेत्रिय साहित्य तथा स्थानीय प्राप्त सामग्री के आधार पर भुगोल,इतिहास,पुरातत्व से संबंधित अनेक पाठ्य सामग्री तैयार हो जिसे छात्र संदर्भ ग्रन्थ पुस्तकों के रुप में उपयोग करें। इस दृष्टि से विशेष कार्ययोजना बनाकर मूर्त रूप देंगे।
इस अवसर पर अकादमी के निवृतमान संचालक श्री चंद्रशेखर वालिमबेय, अपर आयुक्त, उच्च शिक्षा, श्री श्रीराम तिवारी, श्री सुरेश गुप्ता, श्री सुरेंद्र शर्मा उपस्थित थे।