बॉलीवुड

पिछले एक दशक में बॉलीवुड फिल्म इंडस्ट्री में कई सारे रैप सॉन्ग्स देखने को मिले. फिल्मी हों या फिर नॉन फिल्मी, तमाम रैप सॉन्ग्स लोगों की जुबान पर रहे और उन्होंने शानदार पॉपुलैरिटी गेन की. बॉलवुड में जबसे रणवीर सिंह की गली बॉय रिलीज हुई है रैपर्स और उनके रैप सॉन्ग्स की लोकप्रियता बढ़ती जा रही है. मगर आज हिंदी में पहला रैप सॉन्ग गाने वाला सिंगर कहीं गुम सा है. सिंगर का नाम है बाबा सहगल. उनके 55वें जन्मदिन पर बता रहे हैं बाबा के जीवन से जुड़ी कुछ बातें.

90 के दशक में जब उदित नारायण, कुमार सानू, लता मंगेशकर और अल्का यागनिक जैसे सिंगर्स का दौर था उस जमाने में बाबा सहगल ने रैप सॉन्ग्स बनाकर इंडस्ट्री में अलग क्रांति ला दी. उन्होंने रैप का ऐसा ट्रेंड सेट किया कि उस दौर में बॉलीवुड इंडस्ट्री में धड़ल्ले से रैप बनने लगे. मगर ये सिलसिला बढ़ते वक्त के साथ कहीं थम सा गया. या यूं कहें कि बहुत धीमा पड़ गया. मगर बाबा सहगल पूरे उत्साह के साथ रैप बनाते गए. वे आज भी रैप गाते हैं. उन्होंने कोरोना पर भी एक रैप बनाया था जो सुर्खियों में रहा था. वे ट्रेंडिग टॉपिक्स पर रैप बनाना पसंद करते हैं. वैसे अब वे कई फिल्मों में एक्टिंग भी कर चुके हैं और कई सारे विज्ञापनों का भी हिस्सा रहे हैं.

 

 

ठंडा ठंडा पानी से मिली लोकप्रियता

करियर की तरफ रुख करें तो बाबा सहगल ने साल 1990 में दिलरुबा नाम का एल्बम निकाला था. ये उनका पहला एल्बम था. इसके बाद उनका एल्बम अलीबाबा आया. मगर उन्हें फेम मिला साल 1992 में आए उनके एल्बम ठंडा ठंडा पानी से. इसने नए रिकॉर्ड स्थापित किए और बाबा की लोकप्रियता बढ़ने लगी. बाबा ने बॉलीवुड समेत कई सारी भाषाओं की फिल्मों में एक्टिंग भी की है. वे मिस 420, माई फ्रेंड गणेशा 3 और हेलिकॉप्टर ईला जैसी फिल्मों में नजर आ चुके हैं. वे बिग बॉस के पहले सीजन के कंटेस्टेंट के तौर पर भी जाने जाते हैं. बाबा आज एक पॉपुलर यूट्यूबर में से एक हैं और विज्ञापनों का हिस्सा बनते रहते हैं.