slider

देवास। प्रदेश के मुखिया शिवराज सरकार का ताजा आदेश पिछले दिनों आया जिसमें पूरे प्रदेश में मामा जी के रूप में चर्चित मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मध्य प्रदेश में जितने भी शासकीय कार्यक्रम आयोजित होंगे, सभी की शुरुआत कन्यापूजन से की जाएगी. जारी किए गए आदेश में कहा गया था कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की घोषणा के मुताबिक यह फैसला किया गया है. मध्य प्रदेश के उप सचिव डीके नागेंद्र की ओर से जारी इस आदेश में कहा गया था कि इस निर्देश का कड़ाई से पालन सुनिश्चित कराया जाए और इस बाबत अधिकारी अपने तमाम अधिनस्थों को सूचित करें. मध्य प्रदेश में किसी भी सरकारी कार्यक्रम के पहले बेटियों का पूजन होगा. इसकी घोषणा शिवराज सिंह चौहान ने 15 अगस्त को आजादी की सालगिरह पर की थी. इसमें उन्होंने महिला और बेटी के सम्मान का संकल्प लेते हुए ऐलान किया था कि प्रदेश में बेटियों की पूजा से ही सभी सरकारी आयोजन प्रारंभ होंगे.
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने स्वाधीनता दिवस पर महिला और बेटी के सम्मान में लाडली लक्ष्मी योजना के तहत 78 हजार से अधिक ई-सर्टिफिकेट जारी किए थे. जारी आदेश में लिखा गया है कि शासकीय कार्यक्रम बेटियों की पूजा से आरंभ किए जाएं, आदेश में प्रदेश के समस्त विभाग, कलेक्टर, संभागायुक्त, मुख्य कार्यपालन अधिकारी और अन्य सरकारी विभाग शामिल हैं. लेकिन शुकव्रार को पीएम किसान सम्मान निधि कार्यक्रम में ऐसा कुछ देखने को नही मिला और मंच पर कलेक्टर सहित तमाम जनप्रतिनिधि भी मुख्यमंत्री के अनूठे आदेश को ठेगा दिखाते नजर आये । जबकि प्रदेश के अन्य स्थानों पर हुए इस कार्यक्रम में जनप्रतिनिधियों द्वारा पहले कन्या पूजन किया गया पर देवास में ऐसा कुछ देखने को नही मिला इससे यही बोला जा सकजा है कि मामा जी का यह आदेश प्रदेश के अधिकारीगण किस हद तक निबाह रहे है और जनता इस आदेश को किस नजरिए से देख रही है।