slider

संक्रमण की तेज रफ़्तार के बीच शुक्रवार को मध्यप्रदेश सरकार ने खरगोन, छिंदवाड़ा, बैतूल और रतलाम के लिए भोपाल से अफसरों की टीम रवाना की है जो वहां के हालातों की समीक्षा करेगी और कोरोना रोकथाम के लिए क्या तैयारियां है उसकी रिपोर्ट मुख्यमंत्री को भेजेगी.

मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार बढ़ने लगे हैं. सूबे में कोरोना के मामले अब डराने लगे हैं. बीते शुक्रवार को मध्य प्रदेश में रिकॉर्ड 2777 नए मामले सामने आए और 16 लोगों की मौत हुई है. यह आंकड़े साल 2021 में सबसे ज्यादा है. शुक्रवार शाम जारी रिपोर्ट के मुताबिक मध्य प्रदेश में पॉजिटिविटी रेट 10.4% हो चुका है. इसके अलावा कोरोना के एक्टिव मामलों की संख्या भी बढ़कर 19336 तक पहुंच गई है.

इंदौर अब भी 682 नए मामलों के साथ सबसे ज्यादा प्रभावित है. इसके बाद भोपाल में सबसे ज्यादा 528 नए मामले सामने आए हैं. जबलपुर में शुक्रवार को 185 नए मामले सामने आए हैं तो वहीं ग्वालियर में 115 नए केस रिपोर्ट किए गए हैं. इससे पहले गुरुवार को राज्य में कोरोना के 2546 नए मामले सामने आए थे, वहीं कोरोना संक्रमण से 12 लोगों की मौत हुई थी. बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए प्रदेश के चार शहरों में लॉकडाउन के दिन बढ़ा दिए गए हैं. छिंदवाड़ा, रतलाम, खरगौन और बैतूल में कोरोना के चलते लॉकडाउन बढ़ा दिया गया है.

सरकार ने 3 जिलों में भेजी अफसरों की टीम

संक्रमण की तेज रफ़्तार के बीच शुक्रवार को मध्यप्रदेश सरकार ने खरगोन, छिंदवाड़ा, बैतूल और रतलाम के लिए भोपाल से अफसरों की टीम रवाना की है जो वहां के हालातों की समीक्षा करेगी और कोरोना रोकथाम के लिए क्या तैयारियां है उसकी रिपोर्ट मुख्यमंत्री को भेजेगी.

अब तक 38 लाख से ज्यादा को लगी वैक्सीन

स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक कोरोना की दूसरी लहर के बीच तेज़ी से कोरोना टीकाकरण अभियान भी चलाया जा रहा है. 2 अप्रैल तक कुल 38 लाख 89 हज़ार 087 हितग्राहियों को वैक्सीन लगाई जा चुकी है.