slider

गौतमबुद्ध नगर के गांवों में लगातार मौतों का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है. अकेले असतौली गांव में ही 15 दिनों में 11 मौतें, उस्मानपुर में 10 दिन में 7 मौतें, शाहबेरी में 15 दिन में 30 मौतें, खटाना गाँव मे 10 दिनों में 11 मौतें, दादरी वार्ड नम्बर 6 में 7 दिन में 9 मौते हुई हैं.

पिछले 10 दिनों में ग्रामीण क्षेत्रों में 50 से अधिक मौते हुई हैं, बिसरख, जेवर, दादरी के गाँवो में ज़्यादातर लोग बीमार हैं, न जांच हो रही है और न ही सेनेटाइज़ेशन, ग्रामीण दहशत में हैं. स्थानीय विधायकों और सांसदों को सामने आना होगा, अगर ग्रामीण क्षेत्र को इस महामारी ने अपनी चपेट में ले लिया तो नुकसान बहुत ज्यादा होगा.

गौतमबुद्ध नगर के गांवों में लगातार मौतों का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है. अकेले असतौली गांव में ही 15 दिनों में 11 मौतें, उस्मानपुर में 10 दिन में 7 मौतें, शाहबेरी में 15 दिन में 30 मौतें, खटाना गाँव मे 10 दिनों में 11 मौतें, दादरी वार्ड नम्बर 6 में 7 दिन में 9 मौते हुई हैं. ग्रामीणों का आरोप है कि न जांच हो रही है, न सेनेटाइज़ेशन जिसकी वजह से महामारी तेजी से गांव में पांव पसार रही है.

ज्यादातर मौत ऑक्सीजन की कमी और हॉस्पिटल में एडमिट न होने की वजह से हुई हैं. ग्रामीण इलाकों में हालात संभालने के लिए जेवर से भारतीय जनता पार्टी के विधायक ठाकुर धीरेंद्र सिंह ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से बात करके जेवर कस्बे में कोविड-19 अस्पताल की मांग की थी. जिसे गुरुवार को मंजूरी मिल गई है. शुरुआती चरण में 35 बिस्तरों का कोविड-19 अस्पताल शुरू किया जाएगा. इसके बाद जरूरत पड़ने पर आगे इसका विस्तार किया जा सकता है.

जेवर के विधायक ठाकुर धीरेंद्र सिंह ने बताया कि उन्होंने अपनी विधायक निधि से 50 लाख रुपए जारी किए हैं. जिससे 35 बेड की सुविधा विकसित की जाएगी. अस्पताल के लिए जरूरी उपकरण और सामान का ऑर्डर एजेंसियों को दे दिया गया है.

इस अस्पताल में 10 पैरामीटर मॉनिटर, एक पोर्टेबल अल्ट्रासाउंड मशीन, 10 वेंटीलेटर, एक एक्सरे मशीन, एक सक्शन मशीन, एक ईसीजी मशीन, एक डेसिबलेटर, 50 ऑक्सीजन सिलेंडर ए-टाइप, ऑक्सीजन सिलेंडर डी-टाइप और 10 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर स्थापित किए जाएंगे. इस अस्पताल में 10 बेड का वेंटिलेटर आईसीयू वार्ड तैयार किया जाएगा.

हालात पर काबू पाने के लिए गुरुवार को गौतमबुद्ध नगर जिला प्रशासन ने ग्रामीण इलाकों में टेस्टिंग की शुरुआत करवाई है, गौतमबुद्ध नगर के जिलाधिकारी सुहास एलवाई ने बताया कि दादरी, जारचा, उस्मानपुर, खटाना, असतोली, रबूपुरा, दनकौर, जेवर, जहांगीरपुर और बिलासपुर कि ग्रामीण इलाकों में टेस्टिंग टीम भेजी गई हैं. गांव में फिलहाल रैपिड एंटीजन टेस्ट करवाए जाएंगे, यदि लोग इस प्रारंभिक टेस्ट में संक्रमित मिलेंगे तो उनका आरटी-पीसीआर टेस्ट करवाया जाएगा.