slider

पांच राज्यों और केंद्र शासित प्रदेश में विधानसभा चुनाव खत्म होते ही तेल कंपनियों ने पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ाने शुरू कर दिए हैं. इसके पहले करीब दो महीने तक पेट्रोल-डीजल के दाम में बढ़ोतरी नहीं की गई थी. दिल्ली में पेट्रोल करीब 91 रुपये लीटर हो गया है.

तेल कंपनियों ने गुरुवार को पेट्रोल और डीजल के दाम में भारी बढ़त कर दी है. दिल्ली में पेट्रोल जहां 25 पैसे प्रति लीटर महंगा हुआ, वहीं डीजल के दाम में 30 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी की गई है. दिल्ली में पेट्रोल करीब 91 रुपये लीटर हो गया है.

ये हैं प्रमुख शहरों के रेट

इस बढ़त के बाद दिल्ली में पेट्रोल 90.99 रुपये और डीजल 81.42 रुपये लीटर हो गया है. इसी तरह मुंबई में पेट्रोल 97.34 रुपये और डीजल 88.49 लीटर, चेन्नै मेंं पेट्रोल 92.90 रुपये और डीजल 86.35 रुपये तथा कोलकाता में पेट्रोल 91.14 रुपये और डीजल 84.26 रुपये लीटर हो गया है.

अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल का दाम भी बढ़ रहा है. इस मंगलवार को कच्चे तेल का दाम सात सप्ताह के उच्चतम स्तर पर पहुंच गया था. हालांकि भारतीय बास्केट में जो कच्चा तेल आता है उसका दाम करीब 25 दिन पहले का होता है.

गौरतलब है कि चुनाव के दौरान फरवरी के अंत से ही पेट्रोल-डीजल के दाम में कोई बढ़त नहीं की जा रही थी, लेकिन 2 मई को नतीजे आए और 4 मई यानी मंगलवार से पेट्रोल-डीजल के दाम में बढ़त का सिलसिला शुरू हो गया.

5.5 रुपये तक बढ़ सकता है पेट्रोल!

क्रेडिट सुईस की एक रिपोर्ट में यह दावा किया गया है कि तेल कंपनियों ने अगर मार्जिन को दुरुस्त करने यानी अपने घाटे को दूर करने का प्रयास किया तो पेट्रोल के दाम में 5.5 रुपये प्रति लीटर और डीजल के दाम में 3 रुपये लीटर तक की बढ़त हो सकती है.

क्रेडिट सुईस की हाल में जारी रिपोर्ट में कहा गया है कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की की बढ़ती कीमत की वजह से अब कंपनियां अपना मार्केटिंग मार्जिन सुधारने पर जोर देंगी.

कच्चे तेल की लागत में करीब 24 फीसदी की बढ़त

रिपोर्ट के अनुसार इस साल जनवरी से अब तक पेट्रोल की कीमत में करीब 8 फीसदी की बढ़त हुई है, जबकि इस दौरान भारतीय बॉस्केट क्रूड यानी कच्चे तेल की लागत में करीब 24.2 फीसदी की बढ़त हो चुकी है और यह 64.51 डॉलर प्रति बैरल के करीब है.