slider

वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप (WTC) के फाइनल मुकाबले में अब कुछ ही दिन बचे हैं. न्यूजीलैंड के खिलाफ इस महामुकाबले के लिए भारतीय खिलाड़ियों ने साउथैम्पटन में अपनी ट्रेनिंग भी शुरू कर दी है.

वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप (WTC) के फाइनल मुकाबले में अब कुछ ही दिन बचे हैं. न्यूजीलैंड के खिलाफ इस महामुकाबले के लिए भारतीय खिलाड़ियों ने साउथैम्पटन में अपनी ट्रेनिंग भी शुरू कर दी है. कोरोना प्रोटोकॉल के चलते भारतीय खिलाड़ियों को अभी तीन-चार के समूह में अभ्यास करने की अनुमति है. शुक्रवार से पूरी टीम भारतीय टीम एक साथ अभ्यास के लिए उतरेगी तो यह तेज गेंदबाजों के लिए एक तरह का ऑडिशन होगा.

अभ्यास सत्र के दौरान सबकी नजरें मोहम्मद सिराज पर रहेंगी. क्योंकि टीम प्रबंधन सिराज को फाइनल मुकाबले के लिए प्लेइंग इलेवन में शामिल करने के लिए उत्सुक है. यदि सिराज अभ्यास के दौरान अपनी फिटनेस को साबित करने में सफल रहते हैं, तो उन्हें फाइनल मुकाबले में खिलाया जा सकता है.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मोहम्मद सिराज को ईशांत शर्मा की जगह प्लेइंग XI में जगह मिल सकती है. लेकिन यह एक कठिन निर्णय हो सकता है. अगस्त 2019 के वेस्टइंडीज दौरे के बाद यह पहली बार है कि ईशांत शर्मा, मोहम्मद शमी और जसप्रीत बुमराह सभी चयन के लिए उपलब्ध हैं. हालिया वर्षों में विदेशों में भारत की सफलता के पीछे इन तीनों का महत्वपूर्ण योगदान रहा है.

ईशांत शर्मा को इंग्लैंड में 12 टेस्ट मैच खेलने का अनुभव है. लेकिन टीम प्रबंधन ईशांत की बढ़ती उम्र को लेकर सावधान है. ईशांत इंग्लैंड दौरे के दौरान 33 साल के हो जाएंगे. ईशांत ने टखने की चोट से उबरने के बाद इंग्लैंड के खिलाफ घरेलू सीरीज के जरिए टीम में वापसी की थी. साथ ही टीम मैनेजमेंट को ईशांत के लंबे गेंदबाजी स्पेल को लेकर भी दुविधा में है. ऐसे में टीम मैनेजमेंट सिराज को मौका देना चाहता है, जो अपनी स्पीड को कम किए बगैर लंबी स्पेल डाल सकते हैं.

ईशांत शर्मा के बाहर होने की एक और वजह रवींद्र जडेजा का भी फिट होना है. रवींद्र जडेजा ने पिछले दो सालों में गेंद के साथ ही बल्ले से भी शानदार प्रदर्शन कर रहे हैं. जडेजा को बतौर ऑलराउंडर प्लेइंग 11 में जगह मिल सकती है. इसके अलावा रविचंद्रन अश्विन ने ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के खिलाफ सीरीज में गेंद और बल्ले से भी अच्छा प्रदर्शन किया है. ऐसे में जडेजा के साथ अश्विन का भी खेलना तय माना जा रहा है.

साउथैम्पटन में अभी भी काफी सर्दी है, जिसके चलते न्यूजीलैंड की टीम चार तेज गेंदबाजों के साथ उतर सकती है. भारत ने साउथैम्पटन में अब तक दो टेस्ट मैच खेले हैं, जिसमें मोईन अली की स्पिन ने भारतीय बल्लेबाजों को काफी परेशान किया था. लेकिन वे दोनों टेस्ट गर्मियों के अंत में खेले गए थे.