slider

मामला संज्ञान में आते ही मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दोषियों पर कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए. मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद नगर निगम उपायुक्त प्रताप सोलंकी को निलंबित कर दिया गया है. वहीं दो अन्य निगम कर्मियों को भी बर्खास्त कर दिया गया है.

देश के सबसे स्वच्छ शहर इंदौर में शुक्रवार को एक ऐसी घटना सामने आई जिसने मानवता को तार-तार कर दिया है. मध्य प्रदेश के इंदौर में बेघर बुजुर्गों को जानवरों की तरह एक ट्रक में भरकर शहर के बाहर छोड़ने की घटना सामने आई. इस घटना के संबंध में सीएम शिवराज सिंह चौहान के निर्देश पर तीन लोगों को निलंबित कर दिया गया है.

दरअसल, शुक्रवार को एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ जिसमें इंदौर नगर निगम की एक गाड़ी बेघर बुजुर्गों को शहर के बाहर देवास हाईवे पर सामान समेत छोड़ने पहुंची थी. हालांकि लोगों के विरोध के चलते गाड़ी बुजुर्गों को वापस लेकर वहां से चली गई.

बताया जा रहा है कि शहर के बाहर इंदौर-देवास हाईवे पर नगर निगम का ट्रक कुछ बेसहारा और बेघर बुजुर्गों को लेकर पहुंचा और उन्हें निगमकर्मी ट्रक से उतारने लगे. इसी दौरान स्थानीय लोगों ने निगम कर्मियों से शहर से बाहर यू हाईवे पर छोड़ने की वजह पूछी तो निगमकर्मी कोई साफ जवाब नहीं दे सके.

वायरल वीडियो में लोग बोलते दिख रहे हैं कि कम से कम बुजुर्गों को तो यहां मत छोड़ो और निगमकर्मियों को लगातार टोक रहे हैं. इसके बाद निगमकर्मी एक-एक कर सभी बुजुर्गों को वापस उसी ट्रक में डाल देते हैं जिस ट्रक में वह उन्हें लेकर शहर से बाहर लाए थे, और वहां से रवाना हो गए.

इस पूरी घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया. मामला संज्ञान में आते ही मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दोषियों पर कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए. मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद नगर निगम उपायुक्त प्रताप सोलंकी को निलंबित कर दिया गया है. वहीं दो अन्य निगम कर्मियों को भी बर्खास्त कर दिया गया है.