slider

कोरोना वायरस महामारी के चलते इंश्योरेंस कंपनियों को भी नुकसान हो रहा है. कोरोना संकट के दौरान कंपनियों की बीमा लागत और खर्च काफी बढ़ गया है, जिस वजह से कंपनियों को प्रीमियम में इजाफा करना पड़ा है.

इंडियाफर्स्ट लाइफ इंश्योरेंस ने टर्म इंश्योरेंस के प्रीमियम में 25 फीसदी तक की बढ़ोतरी कर दी है. इस बढ़त का असर पॉलिसी लेने वाले नए ग्राहकों पर होगा. पुराने ग्राहकों के लिए जो प्रीमियम तय किया गया था, उन्हें उसी का भुगतान करना होगा.

बीमा कंपनी का कहना है कि कोरोना के दौरान री-इंश्योरेंस महंगा हो गया है. बीमा कंपनी की मानें तो प्रीमियम में इजाफा के अलावा कोई दूसरा विकल्प नहीं था. कोरोना महामारी के चलते जीवन बीमा कंपनियां के पास अनुमान से अधिक मृत्यु दावे आ रहे हैं. जिससे नुकसान हो रहा है.

प्रीमियम में 25 फीसदी तक का उछाल आया है. 40 साल की उम्र में 40 साल के लिए एक करोड़ रुपये का टर्म इंश्योरेंस लेने पर पहले प्रीमियम 15,100 रुपये लगता था, जो अब बढ़कर 18,800 रुपये हो गया है.

इसी तरह कोई 20 साल का युवा अगर इंडियाफर्स्ट लाइफ इंश्योरेंस से 40 साल के लिए टर्म प्लान लेता है तो उसे अब सालाना 5000 रुपये प्रीमियम देना होगा, जबकि पहले 4400 रुपये का प्रीमियम लगता था.

इसी तरह 30 साल वालों के लिए पहले एक करोड़ रुपये टर्म इंश्योरेंस पर 7000 रुपये सालाना प्रीमियत लगता था, जो अब बढ़कर 8,600 रुपये हो गया है. बढ़ी हुई दरें एक अप्रैल 2021 से लागू हो गई हैं.